Nana Patekar Biography In Hindi

0

Nana Patekar (नाना पाटेकर) Biography In Hindi :-

Nana Patekar Biography in Hindi

Nana Patekar Biography in Hindi

दोस्तों आज मैं बात करने जा रहा हूँ, भारत के गिने चुने कुछ बेहतरीन अभिनेताओं में से एक विश्वनाथ पाटेकर की जिन्हें हम फ़िल्मी दुनिया में नाना पाटेकर के नाम से जानते है |

आज कल नाना पाटेकर भले ही बहुत कम फ़िल्मो में काम करते हों, लेकिन आज भी उनकी एक्टिंग का कोई तोड़ नहीं है।

एक अभिनेता के तौर नाना पाटेकर की पहचान एंग्री यंगमैन  के रूप में है |

यूं तो नाना पाटेकर रील लाइफ में एक्टिंग के हीरो तो है ही, लेकिन रियल लाइफ में भी वह किसी हीरो से कम नहीं है |

  • किसानो को खेती के नयी तकनीक और आर्थिक सहायता प्रदान करने के लिए उन्होंने नाम फ़ाउंडेशन नामक NGO की शुरुआत की | जिसके तहत नाना ने अपनी निजी संपत्ति में से गरीब किसानो की सहायता की |
  • सूखे से परेशान जिन किसानो ने आत्म हत्या कर ली थी , उनके पत्नियों को भी उन्होंने भरसक आर्थिक सहयोग किया |
  • बिहार के बाढ़ प्रभावित गांवों के पुन:र्निर्माण के लिए उन्होंने खूब पैसा खर्च किया |

समाज के लिए इतना कुछ करने वाले नाना पाटेकर अगर चाहते तो मुंबई में रह कर ऐसों आराम की जिंदगी जी सकते थे लेकिन नहीं वे अपने गाँव में शांत और सरल जीवन जीना पसंद करते है |

तो चलिए दोस्तों अपने एक्टिंग का लोहा मनवा चुके , भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाने वाले इस मसीहे की लाइफ को हम शुरू से जानते है |


नाना पाटेकर का जन्म 1 जनवरी 1951 को महाराष्ट्र के रायगड जिले के एक छोटे से गाँव मुरुद जंजीरा में हुआ था |

उनके पिता का नाम दिनकर पाटेकर था , जो एक छोटा सा टेक्सटाइल प्रिंटिंग का बिजनस चलते थे, और उनकी माँ का नाम संजनाबाई पाटेकर है जो एक हाउस वाइफ थी |

दोस्तों नाना पाटेकर बचपन से ही फ़िल्मों के बहुत शौकीन थे, और जब भी उन्हें मौका मिलता वे स्कूल और गाँव के नाटकों में पार्टिसिपेट करते थे | इसके अलावा उन्हें स्केचिंग का भी बहुत सौख था |

अब तक नाना पाटेकर की लाइफ में सब कुछ ठीक ठाक चल रहा था , लेकिन 13 साल की उम्र में उनके पिता दिनकर पाटेकर की बिज़नस में भारी नुक्सान हुआ, जिससे उन्हें अपने सारे प्रोपट्री बेचनी पड़ी |

घर के हालत कुछ इस तरह से ख़राब हो गए थे की दो वक्त की रोटी मिलेगी या नहीं इसका भी कोई भरोसा नहीं था |

इस कठिन परिस्थियों को याद करते हुए नाना पाटेकर ने एक इंटरव्यू में बताया:

हम एक-एक रोटी के मोहताज थे, 13 साल की उम्र से मैंने काम करना शुरू कर दिया था। उन दिनों मै स्कूल से आने के बाद 8 किलोमीटर दूर जा कर सिनेमा के पोस्टर पेंट किया करता था। और तब जा कर एक वक्त का खाना और 35 रुपये महीने के मिला करते थे |

कभी कभी जब भूख लगती तो वे अपने स्कूल के इंटरवल में किसी दोस्त के पास पहुँच जाते ताकि वो उन्हें खाना के लिए पूछ ले |

हलाकि इतने कठिन परिस्थितियों में भी उन्होंने एक्टिंग से कभी भी समझौता नहीं किया, और वे नाटकों में पार्टिसिपेट करते रहे |

आगे चल कर उन्होंने विजय मेहता के डायरेक्शन में काम किया, और उस समय उनके रोल को इतना सराहा गया की सभी को यह पता चल गया था की वे आगे चल फ़िल्मो में जरुर सफल होंगे |

आखिरकार मुज़फ्फर अली नाम के डायरेक्टर ने उनके टैलेंट को पहचाना | और पहली बार गमन नाम के मूवी में उन्हें एक सपोर्टिंग एक्टर के तौर पर काम मिल गया |

Daya Gada Biography In Hindi | Disha Vakani

हलाकि वह मूवी कुछ ज्यादा धमाल नहीं मचा सकी, लेकिन कही ना कही नाना पाटेकर ने अपनी एक्टिंग का छाप छोड़ा , जिसकी वजह से उन्हें आगे चल सिंहासन, भालू, रघु मैना, और सावित्री नाम के मराठी मूवीज में काम मिल गया |

लेकिन 1984 में आई आज की आवाज  मूवी से नाना पाटेकर ने हिंदी फ़िल्मो में अपनी असली पहचान बनायीं |  और फिर एक के बाद एक अंकुश, प्रतिघात, मोहरे, परिंदा, यशवंत, अब तक छप् पन, अपहरण, वेलकम, और राजनीति जैसी सुपरहिट मोविज में काम किया |

परिंदा, क्रांतिवीर और अग्नी शक्ची के लिए उन्हें National Film Award भी दिया जा चूका है | इसके अलवा 4 बार वे फिल्म फेयर अवार्ड और 2 बार स्टार स्क्रीन अवार्ड जीत चुके है |

नाना को उनके बेहतरीन एक्टिंग के लिए 26 जनवरी 2013 को भारत का चौथा सर्वोच नागरिक पुरस्कार ‘पद्मश्री’से सम्मानित किया गया।


नाना पाटेकर हमेशा गरीब किसानो की मदद करते आ रहे है और भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाने में थोडा भी नहीं झिझकते है, जैसा की मैंने पहले ही बताया उन्होंने नाम फ़ाउंडेशन नामक एक ट्रस्ट भी खोल रखा है |

इसके अलावा बहुत कम लोगो को पता होगा की वे एक स्केच आर्टिस्ट भी है और कभी कभी वे क्रिमिनल्स की स्केच बनाने में पुलिस की मदद भी करते है |

नाना पाटेकर के अगर पर्सनल लाइफ की बात करें तो उनकी शादी नीलाकांती पाटेकर से हुई जिससे उन्हें एक बेटा मल्हार पाटेकर भी है लेकिन वैवाहिक जीवन में समस्याओं के चलते उनका बाद में चलकर तलाक हो गया |

Nana Patekar Biography In Hindi (Video) :-

 

Share.

Leave A Reply