How Lamborghini Took Revenge To Ferrari | फेरारी से बदला

1

How Lamborghini Took Revenge To Ferrari | फेरारी से बदला :-

How Lamborghini Took Revenge To Ferrari

How Lamborghini Took Revenge To Ferrari

“ मंजिलें उन्हीं को मिलती है जिनके सपनों में जान होती है,
पंखों से कुछ नहीं होता हौसलों से उड़ान होती है ”

दोस्तों यूँ तो आपने यह कहावत कईयों बार सुना होगा, लेकिन आज मै जिस सख्स के बारे में बात करने जा रहा हु, यह उन पर बिलकुल ही सटीक बैठती है |

जी हां दोस्तों मैं बात कर रहा हूँ, दुनिया की जानी-मानी लक्जरी(luxuries) सुपरकार कंपनी लेम्म्बोर्गिनी की | जिसका निमार्ण फारुशियो लेम्बोर्गिनी ने साल 1963 में की थी |

लेकिन दोस्तों कहानी का सबसे motiativational और interesting पार्ट यह है की, इस कंपनी का निर्माण ही लेम्बोर्गिनी के मालिक ने फेरारी कंपनी के मालिक से बदला लेने के लिए लिया था |

अब आप सोच रहे होंगे वो कैसे तो चलिए हम पूरी स्टोरी जानते है |

दोस्तों कहानी की शुरवात होती है साल 1916 से जब इटली के एक छोटे से शहर में फारुशियो लेम्बोर्गिनी का जन्म हुआ | उनके पिता का नाम एंटोनियो लेम्बोर्गिनी था, जो खेतों में काम कर के अपना और अपने परिवार की देख भाल करते थे |

लेम्बोर्गिनी को शुरू से ही इंजिन्स या फिर कह लीजिये मकेनिकल पार्ट्स में काफी दिलचस्पी थी, इसके अलावा उन्हें कार भी खूब सौख था | अपने रूचि को एक नयी राह देने के लिए आगे चल कर लेम्बोर्गिनी ने इसी छेत्र में पढाई भी की और फिर पढ़ाई पूरी हो जाने के बाद 1940 में उन्होंने इटालियन रॉयल एयर फोर्स में कदम रखा, जहाँ उन्होंने दुसरे वर्ल्ड वार में एक मैकेनिक के तौर पर काम किया |

और फिर वर्ल्ड वार ख़त्म हो जाने के बाद, उन्होंने पिइव डी सेंटो नाम की जगह पर एक छोटा सा गैराज खोला और गाड़ियों के इन्जंस की रिपेयरिंग करने लगे | तब तक उन्होंने अपनी फिएट टॉप-लीनो नाम की गाडी भी ले ली थी, जिसे वे खाली समय में मोड़ीफाई(modify) करते रहते थे |

और उसी गाडी को मोड़ीफाई करते हुए उनके दिमाग में एक जबरजस्त आईडिया आया और फिर उन्होंने सेना से इन्जंस(engines) को खरीद कर उनसे ट्रैक्टर बनाना शुरू कर दिया |

लेम्बोर्गिनी का यह आईडिया बहुत जल्द ही काम कर गया, क्योंकी वर्ल्ड वार ख़त्म होने के बाद अपने देश की अर्थ्वाव्ष्ठ को सुधारने के लिए वहां के लोगों ने कृषि पर ध्यान केन्द्रित करना शुरू कर दिया था और फिर ट्रेकतार्स के हाई डिमांड के चलते,1948 में उन्हके द्वारा खोली गयी कंपनी “लेम्बोर्गिनी ट्रट्टोरी” कुछ समय में इटली की सबसे बड़ी ट्रैक्टर कंपनीयों में से एक बन गई |

Adidas And Puma Success Story In Hindi | एडिडास और प्यूमा

दोस्तों अब तक आप सोच रहे होंगे की लेम्बोर्गिनी तो लक्जरी सुपरकार, और स्पोर्ट्स कार बनें वाली कंपनी है,लेकिन स्वप्निल ने अभी तो इसके बारे में कुछ बताया ही नहीं |

तो चलिए दोस्तों अब जानते है की आखिर कैसे लेम्बोर्गिनी एक कार निर्माता कंपनी कैसे बनी ?

दोस्तों अब चुकी फारुशियो लेम्बोर्गिनी की कंपनी एक सफल ट्रैक्टर कंपनीयों में से एक थी और अब उनके पास पैसों की भी कोई कमी नहीं थी | इसी लिए उन्होंने अपने सौख को पूरा करने के लिए उस जमाने की मशहूर sports car Ferrari 250 खरीदी |

लेकिन कुछ समय तक उस कार को यूज करने के बाद लेम्बोर्गिनी को उसके कल्च में थोड़ी प्रोब्लम लगी, और फिर वे कही और शिकायत करने की जगह सीधा Ferrari के फाउंडर एनज़ो फेरारी के पास गए और उनको अपनी समस्या बताई |

एनज़ो फेरारी को लेम्बोर्गिनी का यह कदम बिलकुल भी पसंद नहीं आया, और फिर उन्होंने कहा ” तुम सिर्फ ट्रैक्टर चला सकते हो, Ferrari हैंडल करना तुमारे बस की बात नहीं है ” 

इस बेइज्जती ने  लेंबोर्गिनी को अंदर तक हिला दिया | अरे भाई बचपन से ही कार के दीवाने किसी भी शख्स को अगर यह बात कोई बोल दे, तो बुरा लग्न तो लाजमी है लेकिन दोस्तों लेम्बोर्गिनी को तो इतना जयादा बुरा लग गया की उन्होंने अपनी खुद की कार कंपनी खोलने का फैसला किया,  इस ज़िद में की वे फरारी को तो पीछे छोड़ कर ही रहेंगे |

लेम्बोर्गिनी ने एक छोटे से शहर सेंट अगाटा मैं एक auto factory खोली और उसमें उन्होंने फेरारी के 3 पुराने employees को हायर किया जिसके बाद 1963 में उन्होंने इस कंपनी को Lamborghini Automobile नाम से रजिस्टर्ड कराई |

और फिर लेम्बोर्गिनी का पहला कार “Lamborghini 350 GT” 1964 में लांच किया गया |

लेकिन लैंबोर्गिनी की कार दुनिया की नजरों में  तब आई, जब, 1966 में “”लेम्बोर्गिनी मिउरा स्पोर्ट्स कार”” लांच की गयी जिसे उसकी high performance और अलग टेक्नोलॉजी की वजह से काफी पसंद किया गया |

बस फिर क्या था यहाँ से  लेबोर्गिनी और उनकी कंपनी ने कभी भी पीछे मुड कर नहीं देखा | और आज के समय में लेबोर्गिनी की गाडी खरीदना हर कार प्रेमी का सपना होता है और लेम्बोर्गिनी की स्पोर्ट्स कार दुनियाभर में आज के समय में अपनी तेज रफ्तार और brand name के लिए मशहूर है |

दोस्तों फारुशियो लेम्बोर्गिनी का जन्म एक बेहद साधारण से परिवार में हुआ  | लेकिन सच्ची लगन और  मेहनत के दम पर उन्होंने एक वर्ल्ड क्लास कंपनी बना डाली | और दिखा दिया कि अगर आपमें जज्बा है तो असंभव तो सिर्फ एक शब्द है |

How Lamborghini Took Revenge To Ferrari (Video) | फेरारी से बदला

Share.

1 Comment

  1. Nice website.
    Sir as I am a subscriber of your YouTube channel, so please update you website as in your channel having the information about many topics. So many people like to read the blogs and I am one of them..

Leave A Reply